खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"जिस का खाए उसी की गाए" शब्द से संबंधित परिणाम

जिस का खाए उसी की गाए

जिस से फ़ायदा हो उस की तारीफ़ और ख़ुशामद की जाये तो ये फ़िक़रा बोला जाता है

जिस का खाए उसी का गाए

जिससे कोई लाभ हो उसकी प्रशंसा की जाए और चापलूसी की जाए तब यह बोला जाता है

जिस का खाए उस का गाए

जिस का खाए उस का बजाए

गाए की तरह काँपना

बहुत डरना, डर से लर्ज़ना, ख़ौफ़ज़दा होना

जिस का ख़ून उस की गर्दन पर

जो हत्या करता है वही सज़ा भुगतता है

जिस की लाठी पड़ी उसी के सर

जैसा किया वैसा भरा

फ़िक्र का खाए जाना

फ़िक्र का निढाल कर देना

किसी के खाए किसी के गीत गाए

लाभ किसी से उठाए प्रशंसा किसी की करे

चोर का माल सब खाए चोर की जान अकारत जाए

बदों को अपने काम के नतीजे में ज़रर पहुंचता है

जिस की माँ जलेगी उस की जाई पहले जलेगी

माँ का असर औलाद पर ज़रूर होता है

जिस की तेग़ उस की देग

माल-ओ-दौलत ज़बरदस्त के लिए है

जिस बर्तन में खाए उसी में छेद करे

जिस पत्तल में काएँ इसी में छेद करें, बर्तन की जगह हाँडी भी कहते हैं, जिससे लाभ उठाएँ उसी को हानि पहुँचाएँ, नमक हराम के लिए भी बोलते हैं

जिस का काटा पानी न माँगे

जिस का काम उसी को छाजे और करे तो ठेंगा बाजे

जो जिस काम को सीखता है वही कर सकता है, जिसने जो काम सीखा है वही उसे अच्छी तरह कर सकता है, दूसरे के बस का नहीं

जिस का बंदर वही नचाए

रुक : जिस का काम उसी को छाजे

सोने की गाए

जिस का मारा पानी नहीं माँगता

दफ़ान मार डालता है, जिस के नुक़्सान पहुंचाने का ईलाज नहीं

जिस के लिए

कम खाए ग़म न खाए

ग़म इंसान को तहलील करदेता है, क़र्ज़ लेकर खाने से कम खाना या फ़ाक़ा भला, कम खाने से आदमी नहीं मरता बल्कि ग़म उसे तबाह करदेता है, मुराद ये है कि कम खाने वाले को कोई ग़म नहीं होता, बीमारी से भी महफ़ूज़ रहता है और अख़राजात भी कम होते हैं

जिस की तेग़ उस की देग़

रुक : जिस की तेग़ उस की इताअत बे दरेग़ , जिस की लाठी उस की भैंस

मियाँ की जूती मियाँ का सर

मियाँ का जूता हो और मियाँ ही का सर, आदमी अपने हाथों के किए से लाचार है

जिस क़द्र

जिस-वक़्त

जिस समय, जिस दम, जब

जिस के काटे का मंतर नहीं

वो मसला जिस का हल ना हो, ऐसा असर जिस का असर ना होसके, ऐसी चीज़ जिस के बराबर कुछ नहू

जिस की आँख नहीं उस की साख नहीं

जिस को तजुर्बा और हया नहीं उस की बात का एतबार नहीं

जिस तरफ़ से

मुँह खाए आँख लजाए

अंधा गाए बहरा बजाए

जब किसी काम के करने में अयोग्य व्यक्ति एक साथ लगे हों

जिस डाली बैठें उसी की जड़ काटें

एहसान फ़रामोश, मुह्सिनकुश की निसबत बोलते हैं

जिस ख़ुदा ने

सब का भला सब की ख़ैर

जिस का खाना उस पे ग़ुर्राना

जिस से फ़ायदा इसी से झगड़ा करना अच्छा नहीं

क्या तमाशे की बात है जिस का जाए वो चोर कहलाए

जिस का नुक़्सान हो इस के सर इल्ज़ाम हो, पुलिस वाले जब चोरी का सुराग़ ना मिले तो ये साबित करने की कोशिश करते हैं कि मुद्दई ने माल इधर उधर कर दिया

सय्यद की गाए

मुँह खाए आँख लजाए

खिलाने पिलाने से विरोधी भी सहमत हो जाता है, जिसके साथ भलाई किया जाए वह विरोध करते शर्माता है, भलाई करने वाले के सामने आँख नहीं उठती

जहाँ का मुर्दा तहाँ की गोर

हर जगह का दस्तूर जुदागाना होता है

आग खाए मुँह जले उधार खाए पेट

आग खाने से सिर्फ़ मुँह जलता है मगर आग से ज़्यादा क़र्ज़ से डरना चाहिए क्योंकि आग की सोज़िश ज़ाहिरी जिस्म कित महिदूद रहती है और क़र्ज़ की तकलीफ़ से जी जलता है, क़र्ज़ लेना आग से जल जाने से ज़्यादा तकलीफ़देह है

उंसी

ने'मत की माँ का कलेजा

मालकिन, अर्थात: उत्तम और अनोखी चीज़

जिस का मुड़वा उस का गीत

जिस की शादी हो वो गीत सुनता है जो ख़र्च करे वो फ़ायदा उठाता है

मुर्ग़े की बाँग का क्या ए'तिबार

बकवासी आदमी की डींग का क्या भरोसा

जिस के सर हथियार उस का क्या ए'तिबार

सींग वाले जानवर का कुछ भरोसा नहीं जब चाहे मार बैठे

जिस का कोई नहीं उस का ख़ुदा

ग़ैरबों का मददगार ख़ुदा है

दस पाँच की लाठी एक जने का बोझ

चंद लोग मिल कर ही मदद करें तो किसी का काम या ज़रूरत पूरी होजाती है

जिस को देखो बावन गज़ की

एक से एक बढ़ कर, सब बड़ा फ़ित्ना हैं , कब , लंका में सब बावन गज़ के

राँड की गाँठ में माल का लोक

रांड के पास रुपय की कमी होती है

आँखों में खाए जाना

नज़र बचा कर भेद लेने या एतराज़ की नज़र से देखना

रंडी का कोठा कबूतर की छतरी

किसी औरत का बालाखाना कबूतर की छतरी की तरह होता है इस मौक़ा पर मुस्तामल, जहां ये कहना हो कि इस जगह से गुरेज़ करना चाहिए

माल का नुक़्सान जान की ख़ैर

उस समय कहते हैं जब माल का नुक़्सान हो कर जान बच जाए

मूए की क़ब्र और जीते का घर

मरुदे को क़ब्र में आराम और ज़िंदा को घर में, हर शख़्स अपनी जगह पर ही मौज़ूनियत के साथ रहता है , हर शख़्स अपने ही मुक़ाम पर ख़ुश रहता है , हर चीज़ अपने सही ठिकाने पर भली लगती है

मुँह खाए चौलाई

(बददुआ) बुरा हुआ

जिस हाँडी में खाना उसी में छेद करना

नमकहरामी करना, मुह्सिनकुश होना, एहसान फ़रामोश होना

जिस बर्तन में खाना उसी में छेद करना

जिस का घोड़ा उस के बाहर

जिस की चीज़ होती है इस के दरवाज़े पर होती है

जिस के लिए चोरी की वही कहे है चोर

जिस की ख़ातिर बदनाम हुए वही नफ़रत करता है

ने'मत की माँ का कलेजा कहना

कोई नई या अनोखी बात बयान करना

जिस की गोद में बैठना उसी की दाढ़ी खसोटना

कृतघ्न व्यक्ति के लिए बोलते हैं, वो जो कृपा करने वाले को पीड़ा दे

जिस का ज़र वही नहीं घर

ख़ावंद जिस का डर है वही घर में नहीं जो चाहो सौ करो

सय्यद कबीर की गाए

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में जिस का खाए उसी की गाए के अर्थ

जिस का खाए उसी की गाए

jis kaa khaa.e usii kii gaa.eجِس کا کھائے اُسی کی گائے

सुझाव दीजिए (जिस का खाए उसी की गाए)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

कहावत

जिस का खाए उसी की गाए के हिंदी अर्थ

 

  • जिस से फ़ायदा हो उस की तारीफ़ और ख़ुशामद की जाये तो ये फ़िक़रा बोला जाता है
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

جِس کا کھائے اُسی کی گائے کے اردو معانی

 

  • جس سے فائدہ ہو اس کی تعریف اور خوشامد کی جائے تو یہ فقرہ بولا جاتا ہے

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा