खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे" शब्द से संबंधित परिणाम

ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे

भगवान एक कम उत्साही और नीच आदमी को कोई अधिकार या सत्ता न दे, अयोग्य को ईश्वर अधिकार न दे अन्यथा वह ग़लत काम करता है

गंजे को ख़ुदा नाख़ुन न दे

गंजे को ख़ुदा नाख़ुन न दे जो सर खुजाए

ख़ुदा ज़ुलम को साहब-ए-इख़तियार और कमीने को साहब-ए-स्रोत ना करे (वर्ना वो ग़रीबों को बहुत सताएगा

ख़ुदा गंजे को पंजे न दे

ईश्वर एक कम उत्साही और नीच आदमी को हाकिम न बनाए

गंजे को ख़ुदा नाख़ुन न दे जो खुजाते खुजाते मर जाए

ख़ुदा ज़ुलम को साहब-ए-इख़तियार और कमीने को साहब-ए-स्रोत ना करे (वर्ना वो ग़रीबों को बहुत सताएगा

ख़ुदा रिजाले को नाख़ुन न दे जो अपना सर खुजाए

कमीने आदमी को इतनी ताक़त और हुकूमत ने मिले कि जिस के ग़लत इस्तिमाल से वो अपना नुक़्सान कर ले

एक को दे रुत्बा 'आली एक को दे खुर्पा जाली

सबको बराबर नहीं मिलता, अपना-अपना भाग्य है, किसी को कम मिलता है किसी को ज़्यादा

गंजे को नाख़ुन मिलना

कमीने या नाअहल को इख़तियार हासिल हो जाना

एक से ले, एक को दे

ईश्वर किसी को धनी बनाता है, किसी को निर्धन

गंजे को ख़ुदा नाख़ुन नहीं देता

नाअहल को ख़ुदा बाइख़तियार नहीं करता

ख़ुदा आप को नेकी दे

बातचीत में जुमल-ए-मुग़तरज़ा के तौर पर

मरे न माँझा दे

रुक : मरे ना पीछा छोड़े

ख़ुदा दे खाने को तो बला जाए कमाने को

कहिल वुजूद और निखट्टू अपनी ताईद के लिए कहते हैं

मुँह को लगाम दे

बदज़ुबानी मत करो, ज़बान सँभाल कर बात करे

वहाँ तक हँसिये जो रो न दे

हंसी ठट्ठा वहीं तक बेहतर है जहां तक फ़साद ना हो जाये

ज़बान को लगाम दे

ज़बान रोक / रोको, चुप रह / रहो, बकवास बंद कर / करो

न मियाँ को और , न नौकर को ठोर

किसी को चीन नहीं

हाथ चले न पैयाँ , बैठा दे गुसियाँ

ख़ुदा ताला अपाहजों को घर बैठे रोज़ी पहुंचाता है, काम काज हो या ना हो मगर रज़्ज़ाक़ भूका नहीं रखता और घर बैठे देता है

छुरी को पाएँ तो मुझ को न पाएँ मुझ को पाएँ तो छुरी को न पाएँ

रुक : छुरी को पाता हूँ तो अलख

नाख़ुन-परियाँ

न मैं दूँ न ख़ुदा दे

वहाँ तक हँसाइए जो रो न दे

रुक : वहां तक गदगदईए अलख

जीता-नाख़ुन

नाख़ुन-बोया

नंगी घेरे घाट , न आप नहाए , न औरों को नहाने दे

रुक : नंगा घेरे घाट, ना आप नहाए, ना औरों को नहाने दे

नंगा घेरे घाट , न नहाए , न नहाने दे

शरारती आदमी ना ख़ुद फ़ायदा उठाता है ना दूसरों को फ़ायदा उठाने देता है

नाख़ुन-बंदी

दे-दे

नाख़ुन-बोया

गर्द को न पहुँचना

हमसरी ना कर सकना, मुक़ाबला ना कर सकना, पीछे रह जाना

गर्द को न पहुँचा

मुर्दा-नाख़ुन

माँ को न बाप को जो बनेगी सो आप को

हर शख़्स अपने अपने आमाल का आप ज़िम्मेदार है, कोई किसी की बात का ज़िम्मेदार नहीं है

आँखें आँजने को न मिलना

इतना भी दस्तयाब ना होना कि आँख में लगा लिया जाये

जो न भाए आप को , वो दे बहू के बाप को

(ओ) उस जगह बोलते हैं जहान कोई शख़्स दूसरे के लिए वो बात करे जो ख़ुद के लिए नापसंद हो

ज़िंदा-नाख़ुन

पासंग को न पहुँचना

रुक : पासिंग भी ना चढ़ना

घर आए बेरी को भी न मारिए

जो व्यक्ति घर पर आ जाए उस के साथ बुरा व्यवहार नहीं करते, भले ही वह शत्रु क्यों न हो

रुख़ दे कर बात न करना

ध्यान से बात न करना, लापरवाही से बात करना, तवज्जो से बात न करना, ख़ातिर में न लाना

नाख़ुन-ए-शमशीर से

नाख़ुन चुभाना

नाख़ुन चबाना

खिसियाना होना, लज्जित होना, उग्र होना, परेशान होना

नाख़ुन लगाना

नाख़ुन मारना, नाख़ुन चुभोना

नाख़ुन घिसना

अत्यधिक प्रयास करना, हद से ज़्यादा कोशिश करना, कठिन परिश्रम करना, बहुत मेहनत करना

मुझ को कोई न मारे तो सारे जहाँ को मार आऊँ

(तंज़न बुज़दिल और नामर्द को कहते हैं), बुज़दिल आदमी ख़तरे से डरता है

नाख़ुन देखना

नाखू़न की तरफ़ नज़र डालना, हंसी नियंत्रण करना, (कहते हैं कि जब बहुत हंसी आ रही हो तो नाखू़न की तरफ़ देखने से हंसी बंद हो जाती है शायद ध्यान बट जाता है)

गँवार गन्ना न दे भेली दे

गँवार भेली दे गन्ना न दे

मूर्ख साधारण से व्यय में कृपणता करके हानि उठाता है, ऐसे अवसर पर बोलते हैं जब कोई व्यक्ति किसी साधारण व्यय में कंजूसी करे और बड़े ख़र्च के लिए तैयार रहे

हथिया चले न पय्या , बैठे दे गुसिय्याँ

काम करता नहीं और चाहता है कि बैठे को ख़ुदा खाने को दे, निकम्मे, काम चोर आदमी के मुताल्लिक़ कहते हैं

मुँह को लगाम न होना

बला सोचे समझे जो चाहना कह देना

फूल न पान , कहने को हाँ

निरी बातों से काम नहीं चलता ख़र्च भी करना चाहिए

ऊत गए न जानिये दे गए बाड़

जिस के घर ढनखर लग गए कोई ना रहा और जो शख़्स अपने बुज़ुर्गों के ख़िलाफ़ बदचलन और बदअतवार हुआ वही ओत है

दिन को ऊँट न सूझना

वाज़े बात अलानिया और जानबूझ कर इनकार करना, बिलकुल कमअक़्ल होना, अंधा होना, बीनाई कमज़ोर होना

नाख़ुन तरशवाना

जिस को ख़ुदा बचाए उस पर कभी न आफ़त आए

रुक : जिस को ख़ुदा रखे उस को कौन चखे

धन दे जी को राखिए और जी दे राखे लाज

जान बचाने के लिए धन देनी चाहिए और सम्मान बचाने के लिए जान दे देनी चाहिए

हुमायूँ को हाथ से न देना

हौसला ना हारना

नाख़ुन गड़ोना

पंजे जमाना, नाख़ुन गाड़ना; रह पड़ना; न टलना, मुक़ाबले पर जम जाना

नाख़ुन गड़ाना

नाख़ुन गड़ना

नाख़ुन गड़ जाना, अधिकार या पकड़ होना, बात जमना, नक़्शा जमना

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे के अर्थदेखिए

ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे

KHudaa ganje ko naaKHun na deخُدا گَنْجے کو ناخُن نَہ دے

अथवा - गंजे को ख़ुदा नाख़ुन न दे, जो खुजाते खुजाते मर जाए

कहावत

ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे के हिंदी अर्थ

 

  • भगवान एक कम उत्साही और नीच आदमी को कोई अधिकार या सत्ता न दे, अयोग्य को ईश्वर अधिकार न दे अन्यथा वह ग़लत काम करता है
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

English meaning of KHudaa ganje ko naaKHun na de

 

  • a great fortune in the hands of a fool is a great misfortune

خُدا گَنْجے کو ناخُن نَہ دے کے اردو معانی

 

  • اللہ پاک کم حوصلہ اور کمینے آدمی کو اختیار نہ دے، نا اہل کو خدا اختیار نہ دے ورنہ وہ غلط کام کرتا ہے

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

ख़ुदा गंजे को नाख़ुन न दे

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words