खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है" शब्द से संबंधित परिणाम

मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है

ग़रीबी में ज़िंदगी का कोई मज़ा नहीं आदमी बेएतिबार हो जाता है

यहाँ सब चलता है

यहां सब कुछ होता है, किसी प्रकार की पाबंदी और प्रतिबंध नहीं

मर्द का क्या है एक जूती पहनी एक उतार दी

मर्द जब चाहे औरत को तलाक़ दे दे, मर्द के नज़दीक औरत की हैसियत जूती की सी है

ये दिन सब के लिये है

मरना सब को है, ये दिन लाज़िमी है , रुक : ये दिन सब को धरा है

ए'तिबार-ए-बहार

वसंत का विश्वास

मर्द की बात हाथी का दाँत है

शरीफ़ लोग अपनी बात से नहीं फिरते हैं

सब ख़ैरिय्यत है

सब ठीक है, चिंता की कोई बात नहीं, हर तरह ख़ैरिय्यत है, सब कुछ ठीक है!

चना मर्द-नाज है

चना जवाँ मर्दों की ख़ुराक है, चना सभी अन्नों से बढ़कर पौष्टिक होता है

एक हुनर और एक 'ऐब सब में होता है

हर आदमी में कोई न कोई गुण और अवगुण होता है, कोई व्यक्ति नितांत बेकार या बे-ऐब या निर्दोष नहीं होता

कबूतर-ख़ाने का सा हाल है, एक आता है, एक जाता है

वहाँ कहते हैं जहाँ बहुत से नौकर हों

मर्द का नहाना , 'औरत का खाना बराबर है

दोनों इन कामों में जल्दी करते हैं यानी मर्द नहाता जलद है और औरत खाती जलद है

'औरत मर्द का जोड़ा है

स्त्री और पुरुष को एकस्थ रहना पड़ता है, स्त्री और पुरुष मिल कर ही पूरे होते हैं, स्त्री की पुरुष से और पुरुष की स्त्री से शोभा बढ़ती है

सब जीते जी का बखेड़ा है

अपनी-अपनी सब गाते हैं

सब अपनी कहना चाहते हैं, कोई दूसरों की सुनना नहीं चाहता

जान सब में बराबर है

यह कहावत उस अवसर पर कहते हैं जब कोई दूसरों से बहुत काम लेने का प्रयास करे या दूसरों को कष्ट दे

ज़र का ज़ोरा पूरा है और सब अधूरा है

रुपये में बहुत ताक़त है

ऐसा कहाँ का है

आजिज़ी सब को प्यारी है

विनम्रता सबको पसंद है

हक़ सब को प्यारा है

साँचा सब के मन से उतरता है

सच्चा आदमी सब को बुरा लगता है

सब हाथ लिए बैठे हैं

मुँह किस का है

ख़ुदा का दिया सब कुछ है

हर तरह की सुविधा है, ईश्वर ने जो दिया वही बहुत है, अथवा जो कुछ है वह सब ईश्वर का दिया है, किसी चीज़ की परवाह नहीं, सब्र करने वाले या सहनशील और जो कुछ मिल जाए उस पर संतुष्ट रहने वाले हैं

धूनी-पानी का संजोग है

बहुत विरोध है

क़िस्मत सब की सब के साथ होती है

हर एक की तक़दीर अलग होती है, हर शख़्स का मुक़द्दर अलग अलग होता है

उसको सब की फ़िक्र है

ईश्वर सभी का ख़्याल रखता है, भगवान सबकी ख़बर लेता है

आँच का खेल है

(बावर्चियों और कीमिया गुरों वग़ैरा की बोल चाल) जब कई चीज़ पकाने या तपाने में बिगड़ जाती है तो कहते हैं ये तो आंच का खेल है यानी ज़रा आंच कड़ी हो गई, तो ख़राबी और ज़रा आंच धीमी हुई तो ख़राबी . मतलब ये है कि नाज़ुक और मुश्किल काम है

फूँस का तापना है

बेबुनियाद काम है, चंद रोज़ा ख़ुशी है, बेफ़ाइदा उम्मीद करना

कहाँ का इरादा है

(इरादा की जगह इरादे भी प्रयुक्त है) कहाँ का मक़सद है, किधर जाते हो, कहाँ चले

किस का मुँह है

۔۔ किसे ताक़त है।

आप का मुँह है

आप का पास है

शादी-ग़मी सब के साथ है

तुलसी पीस पास का सब से नेको होए, होते के बहन और बाप हैं, अन-होते की जोए

रुपया वही अच्छा है जो अपने पास हो, बहन और बाप तभी तक हैं जब तक पैसा है, निर्धनता में मात्र पत्नी ही साथ देती है

भले माँस की सब तरह से ख़राबी है

रात माँ का पेट है

आप का घर कहाँ है

जो शख़्स बेवक़ूफ़ों की सी बातें करता है इस से कहते हैं मतलब ये होता है कि आप बड़े नादान हैं

काल सब को खाए बैठा है

मौत सब को आकर रहती है, सब मौत के मुँह में जा चुके हैं

ये ज़माना का हाल है

इस ज़माने के लोगों का क्या हाल है

ये ज़माने का हाल है

इस ज़माने के लोगों को बुरा हाल है, किसी अफ़सोस के मौक़ा पर मुस्तमिल

सब चीज़ की लहर बहर है

किसी चीज़ की कमी नहीं सब कुछ मौजूद है

खाँड खारी का एक भाव है

सख़्त बदइंतिज़ामी के मौक़ा पर कहते हैं, टिके सैर भाजी टिके सैर खाजा

यहाँ का बाबा-आदम ही निराला है

यहाँ की जो बात है वह ज़माने से नई और अनोखी है, यहाँ की या इस घर की हर बात अनोखी है, इस जगह की हर बात अलग है

आदमी क्या है, सरांचे का बाँस है

बहुत लंबा आदमी है, बहुत लंबे आदमी पर उपहास है

नौकरी क्या है ख़ाला जी का घर है

रुक : नौकरी ख़ाला जी का घर नहीं

दाएँ हाथ का खाया हराम है

अह्द या किस्म का एक अंदाज़ कि जब तक अपने दावे को पूरा ना कर लूं, खाना बहुमंज़िला हराम है

दाएँ हाथ का खाना हराम है

अह्द या किस्म का एक अंदाज़ कि जब तक अपने दावे को पूरा ना कर लूं, खाना बहुमंज़िला हराम है

मान का आँकस ज्ञान है

इलम से एतिक़ाद और यक़ीन पैदा होता है

नौ मुट्ठी का ऊँट है

पूरा अहमक़ है

यूँ है , यूँ है

ऐसा है वैसा है, इस तरह है इस तरह है, इस अंदाज़ का है इस तर्ज़ का है

सारा खेल रूपे-पैसे का है

कामयाबी और इक़तिदार का इन्हिसार दौलत पर है

खिलाए का नाम नहीं , रोलाए का नाम है

मर्द को गर्द ज़रूर है

मर्द को मेहनत करनी पड़ती है

ज़ुलैख़ा ज़न है कि मर्द

रुक : ज़ुलीख़ा पढ़ी अलख

सौ 'ऐबों का एक 'ऐब नादारी है

गृहस्ती का काम राँड का चर्ख़ा है

गृहस्ती का धुंद ख़त्म नहीं होता

भले मानस की सब तरह ख़राबी है

नेक इंसान को हर तरह शख़्स दबाता और बुरा भला कहता है, शरीफ़ आदमी को हर हालत में दिक्कतें पेश आती हैं

यूँ है , वूँ है

इस तरह है इस तरह है

पेट सब रखते हैं

भौतिक आवश्यकताएँ सब की होती हैं, सब को भूख लगती है, खाने के लिए सब को चाहिए

चिकना मुँह सब चाटते हैं

ख़ुशहाल की सब जगह ख़ातिर होती है

मर्द को हुशियारी लाज़िम है

मर्द को हरवक़त चौकन्ना रहना ज़रूरी है

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है के अर्थदेखिए

मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है

muflisii sab bahaar khotii hai, mard kaa e'tibaar khotii haiمُفلِسی سَب بَہار کھوتی ہے، مَرد کا اِعْتِبار کھوتی ہے

कहावत

मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है के हिंदी अर्थ

 

  • ग़रीबी में ज़िंदगी का कोई मज़ा नहीं आदमी बेएतिबार हो जाता है
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

مُفلِسی سَب بَہار کھوتی ہے، مَرد کا اِعْتِبار کھوتی ہے کے اردو معانی

 

  • غریبی میں زندگی کا کوئی مزہ نہیں آدمی بے اعتبار ہو جاتا ہے

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

मुफ़्लिसी सब बहार खोती है, मर्द का ए'तिबार खोती है

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words