खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी" शब्द से संबंधित परिणाम

न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी

बेबुनियाद बातों पर वावेला मचाने वाले के मुताल्लिक़ कहते हैं

न आए की , न गए की

आने जाने वालों की, किसी की कोई इज़्ज़त नहीं

बोएँ जौ और काटें गेहूँ

अजीब बात है की हराई और बदले में मिली नेकी

ये भी न हुआ वो भी न हुआ

कुछ फ़ासिला ना हुआ, दोनों में से कोई काम ना बना, कोई मुराद भी हासिल ना हुई

ज़मीन टल जाए और ये न टले

ये बला तो आके रहेगी, ख़ाह कुछ हो, ये मुसीबत तो बहरसूरत नाज़िल होगी, ये शख़्स तो चाहे कुछ भी हो अपनी जगह से हल्लेगा नहीं, ये हुक्म तो हर सूरत में वाजिब उल-तामील है

गए का ग़म, न आए की ख़ुशी

किसी के आने जाने की कोई पर्वा नहीं, बेपर्वाई या लाताल्लुक़ी ज़ाहिर करने के लिए कहते हैं

मरते मर गए, चोंचलों से न गए

बेइज़्ज़त होकर भी ग़रूर ना गया

आए की शादी न गए का ग़म

न किसी चीज़ के मिलने की ख़ुशी है न चले जाने का दुख है, सदैव प्रसन्न रहना, अनिच्छा और निश्चितता के समय बोलते हैं

गए का ग़म, न आए की शादी

किसी के आने जाने की कोई पर्वा नहीं, बेपर्वाई या लाताल्लुक़ी ज़ाहिर करने के लिए कहते हैं

आ गए बराती न ख़ुश्का न चपाती

कुप्रबंधन के लिए प्रयोग किया जाता है

हज़ार जूतियाँ मारूँ और एक न गिनूँ

किसी से इज़हार-ए-नाराज़गी के मौके़ पर कहते हैं यानी जितना मारों इतना ही थोड़ा है

न मियाँ को और , न नौकर को ठोर

किसी को चीन नहीं

न हर लगे , न फिटकरी और रंग चोखा आए

रुक : ना हल्दी लगे ना फटकरी रंग चौखा आए

वक़्त काटे न कटना

किसी शदीद मुश्किल या परेशानी का सामना होना, निहायत तकलीफ़-दह हालात में मुबतला होना नीज़ किसी के इंतिज़ार में बेचैन रहना, दिल ना लगना, किसी तरह वक़्त ना गुज़रना

साख गए फिर हाथ न आए

एतबार एक दफ़ा जाता है तो फिर नहीं आता

सारी ज़ुलैख़ा सुन ली और ये न मा'लूम हुआ कि ज़ुलैख़ा 'औरत थी कि मर्द

बूओरा क़िस्सा सुनने के बाद जब कोई उसी किसे के मुताल्लिक़ बेतुका सवाल कर बैठे तो इस से कहते हैं

काठ का घोड़ा , कपड़े की ज़ीन , बुलाया एक और आ गए तीन

चीं-चपट न की

केउज़र मान लिया

न गंदी गली जाए न कुत्ता काटे

न बुरों के पास जाए न बदनामी उठाए बुरों से ताल्लुक़ रखने का परिणाम अपमान है

ये भी न पूछा कि क्या हुआ

सख़्त से सख़्त मुसीबत में जब कोई पुर्साने हाल ना हो तो कहते हैं

साँसा भला न साँस का और बान भला न काँस का

फ़िक्र थोड़ी देर की भी बड़ी होती है बाण कांस का अच्छा नहीं होता

जौ जट बाँट खाए और गेहूँ खाए डोम

मेहनत कोई करे फ़ायदा कोई उठाने

और की भूक न जानें, अपनी भूक आटा साने

अपनी परेशानी का ख़्याल होता है दूसरे की परेशानी का एहसास नहीं होता

तन-मन की सुध-बुध न रहना

तन-बदन का होश न रहना, महव हो जाना

जौ को गए सत्वानी ले आए

काम कुछ करने गए थे कर कुछ और आए

अपना टेंट न निहारना, और की फल्ली निहारना

अपने ताहरी ऐबों पर भी नज़र नहीं जाती दूसरों के पोशीदा उयूब भी नज़र आजाते हैं

बुड्ढे की न मरे जोरू, बाले की न मरे माँ

बुड्ढे की बीवी और बच्चे की माँ मर जाए तो दोनों का सहारा ख़त्म हो जाता है

काले के काटे का जंतर न मंतर

जिसे नाग डस ले उस का कोई उपचार नहीं, धोखेबाज़ से हर समय हानि होती है

काले के काटे का मंतर न जंतर

ज़बरदस्त और फ़रेबी या दग़ाबाज़ से महफ़ूज़ रहना मुश्किल है

सुतासार न उभरे और बीस्वा राँड न होवे

बेहया का कुछ नहीं बिगड़ता

ऊत गए न जानिये दे गए बाड़

जिस के घर ढनखर लग गए कोई ना रहा और जो शख़्स अपने बुज़ुर्गों के ख़िलाफ़ बदचलन और बदअतवार हुआ वही ओत है

कैसी-कैसी

सौकन भुगती जाए और सौतेला न भुगता जाए

सोकन के मुक़ाबले में इस की औलाद से ज़्यादा दुख पहुंचता है

कूएँ पर गए और प्यासे आए

जहां बड़े फ़ायदे की उम्मीद हो वहां से महरूम रहना, महरूमी-ओ-तिश्ना कामी

ये गए वो गए

रुक : ये जा वो जा, फ़ौरन चले गए

यहाँ न वहाँ ये बला कहाँ

ख़ानाबदोश आदमी है एक जगह नहीं टिकता

सुब्ह की न-न अच्छी नहीं

दुकानदारों का बोली: सुबह चीज़ ज़रूर बेच लेनी चाहिए

कुँवें पर गए और प्यासे आए

जहाँ बड़े फ़ायदे की आशा हो वहाँ से वंचित रहने के अवसर पर बोलते हैं

न रोए रिहाई, न राह-ए-गुरेज़

ना रोय माँदन ना राह रफ़तन

सर-व-पा की ख़बर न होना

न ख़ुदा का ख़ौफ़ और न रसूल की शर्म

इंतिहाई ढीट, बदकार-ओ-बेहिस हो जाने वाले के मुताल्लिक़ कहते हैं

ये मुँह और धनिये की चटनी

इसके लायक़ नहीं है, इसके लिए सक्षम नहीं है, तुम्हारी ये हैसियत नहीं

साँप भी मरे और लाठी न टूटे

काम होजाए और इल्ज़ाम भी ना आए या नुक़्सान भी ना हो

ये अंदाम न चलेगा

यहां तुम्हारी दाल नहीं गलेगी, दम ना चलेगा, फ़रेब नहीं चलेगा

मिज़ाज-ए-'आली, न तो शक न निहाली

जब कोई शख़्स मुफ़लिसी-ओ-तही दस्ती में नाज़ुक मिज़ाजी दिखाता है तो इस की निसबत तंज़न बोलते हैं मिज़ाज तो अमीराना रखते हैं मगर बिछा ने के लिए तोशक या नहा लुच्चा तक मयस्सर नहीं, ग़रीबी में अमीराना मिज़ाज रखने वाले पर तंज़न बोला जाता है

दीन-ओ-दुनिया की ख़बर न होना

किसी बात का होश ना होना, कैफ़-ओ-मस्ती फुरत-ए-मुसर्रत या किसी ग़म अरो सदमे की वजह से हवास में ना रहना

साँझ जाए और भोर आए , वो कैसे न छिनाल कहलाए

जो औरत शाम को जाये और सुबह को आए वो बदचलन समझी जाती है जो सरीहन बद हो उसे बद ही कहा जाएगा

कम्बख़्त गए हाट, तराज़ू मिले न बाट

बदक़िस्मत की नाकामी की हालत में बोलते हैं

ये न हो

कोई भी नहीं, एक भी नहीं मिल सकता, इधर ना उधर, दोनों नहीं, दोनों में से कोई भी नहीं

ये न होगा

किसी तरह मुम्किन नहीं, ऐसा नहीं होसकता

जौ-फ़रोशी और गंदुम-नुमाई

आप की न कहिये

रुक : आप का क्या पूछना है

जा-ए-माँदन न पा-ए-रफ़्तन

कम बख़्त गए हाट , न पल्ले तराज़ू , न पल्ले बाट

रुक : कमबख़्त गए बाट, तराज़ू मिले ना बाट

तैरान-ए-न-पज़ीर

हर्रा लगे न फिटकरी और रंगत चोखी आए

रुक : हैंग लगे ना फटकरी अलख

मींह की आँख न लगना

लगातार बारिश होना

की तरफ़ मुँह न करना

दम-ज़दन की मोहलत न होना

थोड़ा भी समय न होना

जौ-जौ

ज़रा ज़रा, रत्ती रत्ती, हिसाब जो जो बख़शिश सौ सौ

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी के अर्थदेखिए

न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी

na la.Dkaa paidaa hu.aa , na jau kaaTe ga.e , ye muu.nDan aur 'aqiiqe kii dhuum kaisiiنَہ لَڑکا پَیدا ہوا ، نَہ جَو کاٹے گئے ، یہ مُونڈَن اَور عَقِیقےکی دُھوم کَیسی

कहावत

न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी के हिंदी अर्थ

 

  • बेबुनियाद बातों पर वावेला मचाने वाले के मुताल्लिक़ कहते हैं
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

نَہ لَڑکا پَیدا ہوا ، نَہ جَو کاٹے گئے ، یہ مُونڈَن اَور عَقِیقےکی دُھوم کَیسی کے اردو معانی

 

  • بے بنیاد باتوں پر واویلا مچانے والے کے متعلق کہتے ہیں

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

न लड़का पैदा हुआ , न जौ काटे गए , ये मूँडन और 'अक़ीक़े की धूम कैसी

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words