खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"क्या आसमाँ के तारे हैं" शब्द से संबंधित परिणाम

क्या आसमाँ के तारे हैं

कोई ऐसी दुनिया से निराली या नायाब चीज़ नहीं

क्या आसमान के तारे हैं

दिवानों के क्या सर सींग होते हैं

बेवक़ूफ़ हो, यानी तुम्हारे सड़ी या सौदाई होने में कोई शक नहीं

दीवानों के सर पर क्या सींग होते हैं

दीवाने भी दूसरे लोगों की तरह होते हैं

क्या गुप-चुप के लड्डू खाए हैं

बोलते क्यों नहीं, ख़ामोश क्यों हो

तारे आँखों के

(लाक्षणिक) बहुत प्रिय

सूरज को क्या आर्सी ही ले के देखते हैं

जो बात ज़ाहिर हो उस की तशरीअ की ज़रूरत नहीं होती

आँखों के आगे तारे छटकना

ज़ोफ़ या सदमे या थकन वग़ैरा से आंखों के आगे तरमरे नाचना, चक्कर आना

आँखों के आगे तारे छुटना

ज़ोफ़ या सदमे या थकन वग़ैरा से आंखों के आगे तरमरे नाचना, चक्कर आना

सुब्ह के से तारे

'अर्श के तारे टूटना

आँखें क्या नहीं हैं

रुक : आंखें क्या मुंह पर नहीं (उमूमन ज़मीर इज़ाफ़ी के साथ मुस्तामल)

मज़मून के तारे आसमान से उतारना

किसी ख़याल या विषय के लिए अघिक विचार करना, कला या उद्योग में कौशल दिखाना

आसमान के तारे तोड़ना

कठिन अथवा असंभव कार्य कर दिखाना, असंभव को संभव कर दिखाना, अमूल्य एवं अनोखा काम करना

क्या मुँह में घूँगनियाँ हैं

रुक : क्या मुंह में पंजीरी भरी है

आँखें क्या चरने गई हैं

क्या सूझता नहीं

'अर्श के तारे तोड़ना

۳. गुनाह-ए-अज़ीम करना

क्या मछलियाँ हैं जो सड़ी जाती हैं

रुक : किया मछलियां सड़ी जाती हैं , क्या जल्दी है, इस वक़्त मुस्तामल जब कोई किसी काम में ख़ुसूसन लड़की के ब्याह में जल्दी करता है

क्या ख़ूब समझते हैं

आसमान के तारे तोड़ लाना

असंभव और नामुमकिन कार्य करना, बहुत मुश्किल काम करना

क्या ऐसे ला'ल लगे हैं

आप क्या ख़ूब समझते हैं

रुक : अप ऐसी ही बातों से अलख

शेरों के शेर हैं

बहुत ज़्यादा बहादुर, बहुत जरी

'अर्श के तारे तोड़ लाना

۳. गुनाह-ए-अज़ीम करना

आंखें क्या फूट गई हैं

ऐसी भी क्या असावधानी या बौखलाहट कि सामने की वस्तु भी दिखाई नहीं देती

क्या बोर के लड्डू हैं

कुछ नायाब चीज़ नहीं है क्यों पछताते हो

उसे क्या कहते हैं

क्या बना सकते हैं

क्या बिगाड़ सकते हैं, कुछ नुक़्सान नहीं पहुंचा सकते

क्या धूप में बाल सफ़ेद किए हैं

बूढ़े और उम्र रसीदा होने पर भी कवी तजुर्बा ना हुआ

अस्सी क्या कहते हैं

रुक : "उस को क्या कहते हैं"

क्या ला'ल लगे हैं

(तंज़न) क्या खूबियां हैं, कोई ख़ूबी नहीं

तारे गिन गिन के सुब्ह करना

रुक : तारे गिन गिन गिर/के रात काटना

क्या मछलियाँ सड़ी जाती हैं

मेरी मछलियाँ सड़ नहीं जाएँगी जो जल्दी करूँ, मुझे कोई जल्दी नहीं, विशेषतः जब कोई लड़की के विवाह में जल्दी करे तो कहते हैं

आप दुनिया में हैं क्या मैं दुनिया में नहीं

मैं आप की चालें ख़ूब समझता हूँ मुझ से चालाकी न कीजिए

साईं के खेल हैं

कुदरत के करिश्मे हैं

कहाँ के हैं

कौन सी सरज़मीन और कौन से मुल॒क के रहने वाले हैं, किस मख़फ़ी शहर के हैं, ऐसे कौन हैं

तारे गिन गिन के सहर करना

रुक : तारे गिन गिन गिर/के रात काटना

इस को क्या कहते हैं

अजीब बात है (इज़हार हैरत के मौक़ा पर मुस्तामल)

क्या कह के कोसूँ

रुक : किया कोसों

क्या मुँह से फूल झड़ने हैं

क्या मुँह से फूल झड़ते हैं

(तारीफ़ के लिए) किस क़दर ख़ुश बयां है, कैसा फ़सीह है नीज़ जब कोई शख़्स बदकलामी करता है तो इस से तनज़्ज़ा भी कहते हैं

मुँह से क्या फूल झड़ते हैं

क्या पसंदीदा बातें करते हैं , (तंज़न) नाज़ेबा बातें करते हैं

क्या लाल लगे हुए हैं

क्या सुर्ख़ाब का पर लगा है, ऐसी क्या खूबियां हैं, कोई ख़ास बात नहीं

मंडवे के आटे में शर्त क्या

मामूल के मुआमले में किसी बात की शर्त करना फ़ुज़ूल होता है

सर मुंडा के क्या घुटना मुंडवाओगे

क्या सब कुछ खो बैठने का इरादा है ये भी ने रहा तो फिर क्या करोगे, फ़ुज़ूलखर्च से कहते हैं

तमा' के तीन हर्फ़ हैं और तीनों ख़ाली हैं

लोभ में कुछ नहीं रखा

असल के असल होते हैं

भले आदमी की संतान भली होती है, अच्छे कुल में अच्छे ही पैदा होते हैं

हाथ कंगन के लिए क्या आरसी

क्या उन्हीं के सर टेका है

ये काम उन्हीं पर मौक़ूफ़ नहीं है, कुछ उन्हीं पर इस काम या बात का दारू मदार नहीं है

ज़ाहिर के रंग ढंग हैं

रयाकारी और दिखावे की बातें हैं

ख़ुदा के घर में क्या इंसाफ़ नहीं

ख़ुदा इंसाफ़ करता है वो ज़ुल्म की सज़ा ज़रूर देता है

कहाँ से रंगा के आए हैं

(तंज़न) आप में कौनसी ख़ूबी है

आसमाँ-शिगाफ़

आकाश को फाड़ देनेवाला, गगनभेदी

सिपाह-गरी के तीस फ़न हैं

सैनिक बनना बहुत कठिन है

क्या हम तुम से बाहर हैं

हम थमारे ताबेदार हैं, हम तुम्हारे साथ हैं

कहाँ के तीस मार ख़ाँ हैं

कहाँ के ज़बरदस्त दिलावर हैं

काल के मुँह में सब हैं

सब को मौत आकर रहती है

मुल्ला जी क्या कहें, आख़ून जी आगे ही समझे हुए हैं

बे मेहनत-ओ-मशक़्क़त अपना काम कर लेना

जनम के साथी हैं कर्म के साथी नहीं

गो एक ही वक़्त पैदा होने हैं मगर क़िस्मत एक जैसी नहीं

मुल्ला जी क्या कहें, आख़ूंद जी पहले ही समझे हुए हैं

बे मेहनत-ओ-मशक़्क़त अपना काम कर लेना

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में क्या आसमाँ के तारे हैं के अर्थदेखिए

क्या आसमाँ के तारे हैं

kyaa aasmaa.n ke taare hai.nکیا آسْماں کے تارے ہَیں

वाक्य

क्या आसमाँ के तारे हैं के हिंदी अर्थ

  • कोई ऐसी दुनिया से निराली या नायाब चीज़ नहीं
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

کیا آسْماں کے تارے ہَیں کے اردو معانی

  • کوئی ایسی دنیا سے نرالی یا نایاب چیز نہیں.

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (क्या आसमाँ के तारे हैं)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

क्या आसमाँ के तारे हैं

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words