खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"तो था ही दीवाना उस पर आई बहार" शब्द से संबंधित परिणाम

तो था ही दीवाना उस पर आई बहार

आवारा के लिए आवारगी के मज़ीद सामान भी मुहय्या हो गए, शौक़ीन के लिए हसब मर्ज़ी मारकात-ओ-अस्बाब फ़राहम होगए, ख़राबी में और ख़राबी पड़ी

एक तो चोरी, दूसरे उस पर सीना-ज़ोरी

दोष करके उस पर लज्जित होने के बजाय शेर बनना, अपराध करके उल्टे आँख दिखाना

मुँह पर आई तो नहीं रुकती

ख़्याल में आई हुई या सच्ची बात इंसान कह ही देता है

तो चोरी और उस पर सर ज़ोरी

तसव्वुर करने के बाद ढाई, ग़लती करने के बाद शर्मसारी के बदले दो बद्दू जवाब मुंह ज़ोरी

एक तो मुआ अन-भाया था, दूसरे सही साँझ आता था

किसी दुराचारिणी स्त्री का अपने पति अथवा किसी अन्य प्रेमी के संबंध में कथन कि पहले तो वह मुझे पसंद नहीं था और फिर शाम से ही आकर अड्डा जमाता था

तुम्हारे ही तो सुर्ख़ाब का पर है

(तंज़न) तुम ही तो बड़े ज़बरदस्त हो

मुँह पर आई बात

मुँह पर आई बात

कमबख़्ती तो नहीं आई

क्या शामत आई है, खोए दिन तो नहीं आए, पिटने को तो जी नहीं चाह रहा

थाली फेंको तो सर ही पर गिरे

रुक : थाली फेंको तो सर पर उछले

मुँह पर आई बात

बहार-ए-ज़िन्दगी पर ख़िज़ाँ लाना

घर पर गंगा आई

मक़सद बे मशक़्क़त हासिल होगया

शाहिद-ए-बहार पर जोबन होना

इंसान ही तो है

मनुष्य से भूल-चूक हो ही जाती है

बग़ल था सियारा, तो पूत था हमारा, जब कमर हुवा कटारा, तो कंथ हुआ तुम्हारा

खाने पीने को हमारा था कमाने को तुम्हारा हो गया बेटे बहू की तरफ़ इशारा है

यहाँ तो जग ही डूबा है

एक व्यक्ति ग़लती या भूल-चूक करे तो दूसरे उसे समझाएँ, जब सब ही ग़लती करें तो कौन समझाए

लाल प्यारा तो उस का ख़्याल भी प्यारा

۔ मिसल। जो दिल को पसंद होताहै उस की हर बात पसंद आतीहे। अपनों के ऐब भी गवारा होजाते हैं

दीवाना-साँ

हींग आई तो बाट लगाई

मौक़ा खो दिया

तक़दीर का बदा यूँ ही था

इसी तरह क़िस्मत में लिखा था, नविश्ता अज़ली यूं ही था, करम रेख यही था, ये काम यूं ही होना था

भोंकना सिखाया तो काटने को आई

किसी के साथ रियायत की तो वो हद से बढ़ गया या बढ़ गई

तू तो वहीं मरा हुआ था

(अर्थात) तू तो वहाँ मौजूद था

सर पर आरे चल गए तो भी मदार ही मदार

सख़्त तकलीफ़ उठाई फिर भी अपनी हिट पर क़ायम रहा

सग-ए-दीवाना

पागल कुत्ता, बावला कुत्ता

का'बा हो तो उस की तरफ़ मुँह न करूँ

किसी जगह से इस क़दर बेज़ार और तंग होना कि अगर वो जगह मुक़ाम मुक़द्दस और ख़ुदा का घर भी बिन जाये तो उधर का रुख़ ना करना ग़रज़ निहायत बेज़ार तंग और आजिज़ हो जाने के मौक़ा पर ये फ़िक़रा बोला जाता है

दीवाना-ख़ू

जिस के सर पर हथियार उस का क्या ए'तिबार

तक़दीर का लिक्खा यूँ ही था

भाग्य का लिखा यही था, यही होना था, इसी तरह होना था, भाग्य में इसी तरह होना था

मुँह पर आई नहीं रुकती है

आई-सी-एस

मेरा माथा उसी वक़्त ही ठंका था

मुझे उसी वक़्त शुबा हो गया था, में पहले ही ताड़ गया था

दीवाना-ए-मसीह

(ईसाई) मसीह (यीशू) का जुनूनी अर्थात अनुयायी, ईसा का प्रेमी, यीशू का दीवाना

नाक तो कटी पर वो ख़ूब ही में मरी

नाक कटवा ली मगर ज़िद न छोड़ी

माँ डाएन हो तो क्या बच्चों ही को खाएगी

बुरा इंसान भी अपनों का लिहाज़ करता है, अपनों को कोई नक्साक् नहीं पहुंचाता चाहे ग़ैरों से कैसा सुलूक करे

दीवाना-ए-शौक़

दीवाना-नवाज़

दीवानों पर दया करने वाला, प्रेमी पर कृपा करने वाली प्रेमिका

दीवाना-सिफ़त

पागल की तरह

बहार-ए-गुल्सिताँ

उस जातक पर प्यार जताओ, मात-पिता बिन जिस को पाओ

अनाथों के साथ अच्छा व्यवहार करो, अनाथ बच्चों से प्यार करना चाहिए, अनाथ पर दया करनी चाहिए

आई रोज़ी नहीं तो रोज़ा

कुछ मिल गया तो खा पी लिया नहीं तो भूखा रह गया, भरोसे और संतोष पर गुज़र बसर है

बहाराँ-बहार

जिस का ख़ून उस की गर्दन पर

जो हत्या करता है वही सज़ा भुगतता है

दीवाना-गर

पागल बना देनेवाला

'आलम-ए-बहार

'अर्क़-ए-बहार

एक क़िस्म का अर्क़ जो नारंगी और तुरंज (बिजौरा या चकोतरा नींबू) के फूलों से निकाला जाता है

ए'तिबार-ए-बहार

वसंत का विश्वास

ता'बीर-ए-बहार

कैफ़ियत-ए-बहार

बहार-ए-रंग

रंगीन वसंत

रंग-ए-बहार

वसंत ऋतु की छटा

आँख ही फूटी तो भौं कब भाती है

जो बात या विषय ही कारण था जब वही न रहा तो फिर संबंध कैसा, जड़ न हो तो शाख़ें बेकार हैं

ग़ालिब था

अग़्लब था, यक़ीन था, गुमान था, जैसे : ग़ालिब था कि वो बढ़ जाता

भूभल में रोटी दाब कर तो नहीं आई

जब कोई औरत जल्दी वापस जाने लगे तो कहते हैं

आई तो नोश नहीं तो फ़रामोश

कुछ मिला तो अच्छी बात नहीं तो सब्र के सिवा कोई चारा नहीं, आई तो रोज़ी नहीं तो रोज़ा

ए'तिमाद-ए-बहार

वसंत का विश्वास

मौसम-ए-दीवाना-गर

दीवाना बना देने वाला मौसम, वसंत ऋतु

लुत्फ़ ये था

ख़ूबी ये थी / है, (तंज़न) तरह पे था / है, ताज्जुब ये था / है, अजीब बात ये थी / है

गुल-ए-बहार

वसंत का गुलाब, वसंत का सबसे अच्छा हिस्सा

सुब्ह-ए-बहार

वसंत ऋतु की शुरूआत, पुष्प-समय का प्रारंभ

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में तो था ही दीवाना उस पर आई बहार के अर्थदेखिए

तो था ही दीवाना उस पर आई बहार

to thaa hii diivaana us par aa.ii bahaarتو تھا ہی دِیوانَہ اُس پَر آئی بَہار

कहावत

तो था ही दीवाना उस पर आई बहार के हिंदी अर्थ

  • आवारा के लिए आवारगी के मज़ीद सामान भी मुहय्या हो गए, शौक़ीन के लिए हसब मर्ज़ी मारकात-ओ-अस्बाब फ़राहम होगए, ख़राबी में और ख़राबी पड़ी
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

تو تھا ہی دِیوانَہ اُس پَر آئی بَہار کے اردو معانی

  • آوارہ کے لیے آوارگی کے مزید سامان بھی مہیا ہو گئے ، شوقین کے لیے حسب مرضی معرکات و اسباب فراہم ہوگئے ، خرابی میں اور خرابی پڑی.

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (तो था ही दीवाना उस पर आई बहार)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

तो था ही दीवाना उस पर आई बहार

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words