खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है" शब्द से संबंधित परिणाम

ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है

नौकरी और मुलाज़मत का कुछ एतबार नहीं, जिस मंसब पर आज हम हैं इसी पर कल दूसरा है या यूं कहो कि नौकरी किसी की मीरास और किसी का हक़ नहीं है इस का हर शख़्स मुस्तहिक़ होसकता है

हम्माम की लुंगी

वह मुफ़्त चीज़ जिसे कोई भी उपयोग कर सकता हो, सामान्य उपयोग की चीज़

रोज़गार हम्माम की लुंगी है

नौकरी एक की नहीं होती, कभी कोई उस जगह पर होता है कभी कोई यानी इस का कोई एतबार नहीं (नहाने के वक़्त हम्मामी लुनगी देता है और फिर ले लेता है)

हम्माम-ए-मो'तदिल

संग-ए-हम्माम

ख़ाकी रंग का एक ठोस पदार्थ जो स्नानगृह (हम्माम) के पानी गर्म करने के बड़े बर्तन (देग) में जमा होकर सख़्त हो जाता है, औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है, विशेष रूप से लाभकारी बताई गई है

हम्माम-ए-नारिय्या

ये बिस की गाँठ है

बहुत शरीर और ुबरा आदमी है

ये क़िस्मत की बात है

बदनसीबी, हानि और मायूसी की जगह प्रयुक्त, ग़म और ख़ुशी क़िस्मत से होती है, यह बदक़िस्मती है

हम्माम-ख़ाना

नहाने की बंद जगह, गुस्लख़ाना, स्नानघर

ये कव्वा फँसने की चाल है

हमाक़त की बात है, आफ़त में मुबतला होने के लच्छन हैं

ये कव्वा फँसाने की चाल है

हमाक़त की बात है, आफ़त में मुबतला होने के लच्छन हैं

मज़े की बात तो ये है

दिलचस्प बात, मुक़ाम हैरत, ताज्जुब का मुक़ाम, लुतफ़ की बात

हम्माम की लुंगी जिस ने चाही बाँध ली

आम चीज़ है जो चाहे इस्तिमाल करे

ये गंगा किस की ख़ुदाई है

उसको कहते हैं जो अपनी दौलत का ग़ुरूर करे कि यह तो ईश्वर की दी हुई है, या यह हमारी वजह से है

ये आप के फ़रमाने की बात है

कोई ग़लत या नाजायज़ बात कहे तो बतौर तनबीहा कहते हैं

आप के फ़रमाने की ये बात है

ऐसा कहना आप को शोभा नहीं देता

हम्माम-ची

स्नानागार वाला, स्नानागार का प्रबंधक या अधिकारी

सर-हम्माम

हम्माम को गर्म कमरा जिसमें नहाया जाता है।

तर-हम्माम

ये कहने की बातें हैं

ज़बानी जमा ख़र्च है, बेकार की बातें हैं, सिर्फ़ कहने की हद तक है अमलन यूं नहीं होसकती

ये भी यारों की ऐक धज है

ख़िलाफ़-ए-वज़ा कोई बात सरज़द हो तो इस के लिए नाक़ाबिल-ए-क़बूल उज़्र तराशने के मौक़ा पर कहते हैं

ये हथकंडा है

निहायत सहल और हाथ का काम है नीज़ रोज़ा मर्राह की चालाकियां हैं बाएं हाथ का दाओं है, ये चालाकी है

मज़ा ये है

लुतफ़ की बात ये है, अजीब कैफ़ीयत ये है

तुर्फ़ा ये है

ये क़िस्मत है

۔ये बात क़िस्मत पर मुनहसिर है।

लुत्फ़ ये है

तालिब-ए-'इल्म की लुंगी

कोई ऐसी वस्तु जिससे कई काम निकलें,कई कामों में काम आने वाली चीज़

'अलील की राए 'अलील है

बीमार की राय नाक़िस होती है

ये गूए और ये मैदान है

आईए अभी मुक़ाबला हो जाये, यानी जब कोई हैसियत से बढ़कर दावा करता है तो उसे नीचा दिखाने के वास्ते कहते हैं

मिल गए की सलाम-ओ-'अलैक है

कहीं मिल जाएं तो सलाम दुआ हो जाती है वर्ना ज़्यादा गहिरा ताल्लुक़ नहीं है

ये वाक़ि'आ है

ये दरुस्त है, ये ठीक है, ये सच्च है

वाक़ि'आ ये है

हक़ीक़त ये है, हक़ बात ये है, दरअसल बात यूं है

ख़ुलासा ये है

ये हथकंडा है

निहायत सहल और हाथ का काम है नीज़ रोज़ा मर्राह की चालाकियां हैं बाएं हाथ का दाओं है, ये चालाकी है

कमबख़्ती की है ये निशानी, सूख गया कुँवें का पानी

बहुत अधिक हानि होना

साफ़ ये है

असल ये है, हक़ीक़त ये है

ये किस खेत की मूली है

जिस के बारे कुछ भी मालूम न हो, जो बेहैसियत हो, जो अपनी पहचान न रखे, यह असत्य है

हम्माम का ख़ज़ाना

स्नान ख़ाने में गर्म पानी का भंडार, नहाने के पानी का संग्रह

वतन की मोहब्बत एक जुज़्व-ए-ईमान ईमान है

अपने मुलक से मुहब्बत ईमान का हिस्सा है (अपने मुलक से मुहब्बत की एहमीयत को उजागर करने के लिए मुस्तामल मक़ूला)

है ये

ये है

ये बात है (ताकीद के लिए या किसी चीज़ या बात की एहमीयत बताने के लिए)

हक़ तो ये है

सच्च बात ये है

मज़ा तो ये है

लुतफ़ इस में है, लुतफ़ की ये बात है, अजीब बात ये है

लुत्फ़ ये है कि

मिट्टी कहाँ की है

मालूम नहीं कि मर कर किस जगह दफ़न होंगे , किस जगह मौत आएगी

ये गू औ ये मैदान है

आईए अभी मुक़ाबला हो जाये, यानी जब कोई हैसियत से बढ़कर दावा करता है तो उसे नीचा दिखाने के वास्ते कहते हैं

गाँव गए की बात है

जब तक जा कर देख न लें यक़ीन नहीं आता है

एक हम्माम में सब नंगे

सब एक ही जैसे हैं, कोई किसी को बुरा नहीं कह सकता, सभी लोगों मै कुछ न कुछ त्रुटियाँ होती हैं

ज़ात ख़ुदा की बे-'ऐब है

ईश्वर में कोई दोष नहीं है, मनुष्य कभी निर्दोष नहीं हो सकता, केवल ईश्वर ही निर्दोष है, मनुष्य निर्दोष नहीं है

बे-'ऐब ख़ुदा की ज़ात है

प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई बुराई है, केवल ईश्वर ही हर दोष और हर बुराई से मुक्त है

निरा बस की गाँठ है

अज़हद शरारती है

ये वक़्त और है

वक़्त गुज़र जाने के बाद पिछले वक़्त को याद करते हुए कहते हैं, अच्छे दिनों को याद करते हुए कहते हैं

वाक़ि'आ तो ये है

रुक : वाक़िया ये है

है तो ये

۔ असल बात ये है ।

मज़ा तो ये है

लुतफ़ इस बात में है, मज़े की बात तो ये है, अजीब बात तो ये है

कूए की आवाज़ है

जैसी कहोगे वैसी सुनोगे

नाहक़ की धाँद है

बेफ़ाइदा की दौड़-भाग है, बेकार की लालसा है, निकम्मी हिर्स है

देखिए ये बिजली कहाँ गिरती है

ख़ुदा जाने ये मुसीबत किस पर पढ़नी है

सुस्ती मुफ़्लिसी की माँ है

ये ज़बान निकाली है

इस क़दर ज़बान दराज़ हो गया है, हर एक से गुस्ताख़ी या बेअदबी करता है, ुबरा भला कहता है

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है के अर्थदेखिए

ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है

ye KHidmat hammaam kii lungii haiیِہ خِدمَت حَمّام کی لُنگی ہے

कहावत

ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है के हिंदी अर्थ

  • नौकरी और मुलाज़मत का कुछ एतबार नहीं, जिस मंसब पर आज हम हैं इसी पर कल दूसरा है या यूं कहो कि नौकरी किसी की मीरास और किसी का हक़ नहीं है इस का हर शख़्स मुस्तहिक़ होसकता है
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

یِہ خِدمَت حَمّام کی لُنگی ہے کے اردو معانی

  • نوکری اور ملازمت کا کچھ اعتبار نہیں ، جس منصب پر آج ہم ہیں اسی پر کل دوسرا ہے یا یوں کہو کہ نوکری کسی کی میراث اور کسی کا حق نہیں ہے اس کا ہر شخص مستحق ہوسکتا ہے

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

ये ख़िदमत हम्माम की लुंगी है

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words